ताजा ख़बरे

सूर्य ग्रहण की पूरी जानकारी क्या करे क्या ना करे #SuryaGrahan (Solar Eclipes)2020 #Sutakkal


वर्ष 2020 का पहला सूर्य ग्रहण आज यानी दिन रविवार आषाढ़ मास अमावस्‍या तिथि में लग रहा है। मृगसिरा और आर्द्रा नक्षत्र में मिथुन राशि में लगने वाला यह खंडग्रास सूर्य ग्रहण कंकणाकार और वलयाकार होगा। सूर्य ग्रहण की अ‍वधि तीन घंटे 30 मिनट की होगी। झारखंड में सुबह इसे 10 बजकर 35 मिनट के बाद देखा जा सकेगा। राजधानी रांची में सूर्य ग्रहण देखने का समय 10 बजकर 37 मिनट होगा। इसका प्रभाव दिन में 2 बजकर 10 मिनट तक रहेगा। इस तरह कुल 3 घंटा 33 मिनट की अवधि तक सूर्य ग्रहण प्रभावी रहेगा।

सूर्य ग्रहण का प्रभाव भारत के अलावा जापान, चीन, यूरोप, रूस के अलावा अरब देशों में भी देखने को मिलेगा। हालांकि अलग-अलग स्‍थानों पर ग्रहण की समय अवधि अलग होगी। भारतीय समयानुसार सूर्य ग्रहण का स्‍पर्श काल रविवार, 21 जून को सुबह 9 बजकर 16 मिनट त‍था मोक्ष काल दोपहर बाद तीन बजकर 14 मिनट पर होगा। ग्रहण की अवधि सुबह 10 बजे से दोपहर बाद ढाई बजे तक प्रभावी होगी।


वीडियो मे देखे
आपको बता दे कि इस काल में तीन योग एक साथ एक ही दिन जिसमें रविवार वही अमावस्‍या और सूर्य ग्रहण का संयोग एक साथ दिखने को मिलेगा।वही इसके साथ ही आज मंदिरों के कपाट बंद हो जाएंगे। आज रात 10 बजकर 14 मिनट से सूतक काल शुरू हो जाएगा। यह सूर्य ग्रहण चूड़ामणि योग युक्त होगा। यह भारत में देशभर में दिखाई देगा। भारत के अतिरिक्त यह ग्रहण अफ्रीका, दक्षिण-पूर्व यूरोप, मध्य पूर्व के देशों, एशिया, इंडोनेशिया में दिखाई देगा। इस सूर्य ग्रहण का सूतक 12 घंटे पूर्व प्रारंभ हो जाएगा। यह ग्रहण मृगशिरा और आर्द्रा नक्षत्र पर, मिथुन राशि पर लगेगा।

सूर्य ग्रहण के दौरान इन बातो का रखें ध्यान

1 - नंगी आंख से सुर्य ग्रहण को न देखें
2 - सोलर फिल्टर ग्लास वाले चश्में का इस्तेमाल करें।
3 - घर के बनाए जुगाड़ वाले चश्मे या किसी लेंस से सूर्य ग्रहण न देखें।
4 - अमेरिकी संस्था के अनुसार  ग्रहण के वक्त कार या अन्य वाहन न चलाएं
5 - वाहन की हेडलाइट जलाकर और अन्य वाहनों से कुछ दूरी बनाकर ही वाहन चलाए
GOOGLE
सुर्य ग्रहण बच्चों से लेकर बड़ों तक कोई भी इस ग्रहण को नंगी आंख से न देखें। वही नासा के अनुसार  सूर्य ग्रहण को देखने के लिए सोलर फिल्टर ग्लास वाले चश्में का इस्तेमाल करें। वैज्ञानिको की सलाह है कि घर के बनाए जुगाड़ वाले चश्मे या किसी लेंस से सूर्य ग्रहण न देखें। इससे आपकी आंख पर बुरा असर हो सकता है। ग्रहण के वक्त आकाश की ओर देखने से पहले सोलर फिल्टर चश्मा लगाएं और नजर नीचे करने के बाद या ग्रहण समाप्त होने के बाद ही इसे हटाएं।


एक अमेरिकी संस्था के अनुसार, ग्रहण के वक्त कार/अन्य वाहन न चलाएं लेकिन यदि कोई ग्रहण के वक्त रास्ते में ही है तो वह अपने वाहन की हेडलाइट जलाकर और अन्य वाहनों से कुछ दूरी बनाकर ही वाहन चलाए। ड्राइविंग में विशेष सावधानी बरतने की हिदायत है। अगर आप बच्चों को यदि ग्रहण दिखाने का प्लान बना रहे हैं तो उनकी आखों को बचाने वाले सोलर फिल्टर चश्मे की व्यवस्था जरूर कर लें।

GOOGLE
देखे किस राशी पर क्या असर पड़ेगा सूर्य ग्रहण का
मेषपराक्रम वृद्धि, राजकीय सम्मान या लाभ,संतान से इस संतान को कष्ट।
वृषभ - सुख के साधनों में कमी वही आर्थिक परेशानी और व्यापार में अवरोध साथ ही पारिवारिक समस्या या विवाद हो सकता है।
मिथुन - राशी शरीरिक एवं मानसिक कष्ट,दाम्पत्य में तनाव,भाई-बहनों को कष्ट, चोट या आपरेशन की भी संभावना हो सकती है।
कर्क - खर्च में वृद्धि, पेट या पैर की समस्या या शरीर में कहीं चोट लग सकती है,वाणी और संयम रखें ।
सिंह - आय एवं आय के साधनों में वृद्धि,शरीरिक कष्ट, दाम्पत्य का सुख मध्यम ,वाणी में मधुरता बनाएं रखें।
कन्या - परिश्रम एवं कार्यो में अवरोध,सीने की तकलीफ या घबराहट,सम्मान में अचानक कमी,माता को कष्ट।
तुला - पराक्रम में वृद्धि,भाग्य में अवरोध ,वाद-विवाद से बचें । संतान से एव संतान को कष्ट संभव।
वृश्चिक - अचानक धन खर्च, वाणी पर नियंत्रण रखें ,पेट एवं पैर की समस्या ,अचानक किसी शरीरिक कष्ट से परेशान हो सकते हैं ।
धनु - दाम्पत्य जीवन खटास आ सकती है ,प्रेम संबंधों में विवाद या तनाव । मानसिक तनाव या नकारात्मक विचार संभव।
मकर - रोग ऋण एवं शत्रु होंगे पराजित,खर्च में वृद्धि या अधिकता ,यह ग्रहण शुभ फल प्रदान करने वाला होगा।
कुंभ - संतान को कष्ट या संतान से कष्ट संभव, आय में वृद्धि , तनाव व मानसिक परेशानी भी हो सकती है।
मीन - सीने की तकलीफ,माता को कष्ट,वाहन की क्षति ,सम्मान में अचानक कमी,अनियोजित खर्च से आप परेशान हो सकते हैं ।
GOOGLE

गर्भवती महिलाएं रखें विशेष सावधानी

भारतीय मान्यताओं के अनुसार, ग्रणह शुरू होने से लेकर ग्रहण समाप्त होने तक यानी ग्रहणकाल के सुबह 09:15 से दोपहर 03:04 तक में गर्भवती महिलाओं को विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। घर के बुजुर्गों या अपने पंडित की सलाह के अनुसार ही जरूरी उपाय अपनाएं। माना जाता है कि ग्रहण के दौरान महिलाओं को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। हालांकि मन में किसी प्रकार का भय या चिंता नहीं रखनी चाहिए। ग्रहण वाले दिन को भी आम दिनों की तरह एक सामान्य दिन मानना चाहिए

No comments