ताजा ख़बरे

मंत्री के बेटे को रोकने पर कॉन्स्टेबल सुनीता यादव के खिलाफ 3-3 जांच जाने पूरी खबर

कुछ दिन पहले गुजरात की पुलिस कॉन्स्टेबल सुनीता यादव मंत्री के बेटे की वीडियो बनाकर चर्चा में तो आईं। लेकिन अभी वह परेशानियों में घिरी हैं। उनके खिलाफ तीन-तीन जांच शुरू हो चुकी हैं। फिलहाल सोशल मीडिया पर तो उन्हें पूरा समर्थन मिल रहा है, लेकिन सुनीता के इस्तीफे पर भी स्थिति साफ नहीं है। उन्होंने इस्तीफे का दावा किया है। वहीं पुलिस कमिश्नर ने कहा कि सुनीता से पूछताछ अभी भी जारी है। तकनीकी रूप से वह इस्तीफा नहीं दे सकतीं।


कई लोग सिस्टम को कोस रहे लोग


सुनीता के ऊपर लगे तीन आरोप 

सुनीता के ऊपर आरोप लगा है कि वह लोगों को सड़क पर उठक-बैठक कराती थीं। इस बात को लेकर उसके खिलाफ जांच शुरू की गई हैं। वहीं दूसरा आरोप उनके ऊपर बीते 9 जुलाई से अपनी ड्यूटी से गायब होने का लगा है। इसके अलावा उसके खिलाफ मंत्री के बेटे को फटकार लगाने की जांच पहले से चल रही है। इस तरह अब उनके खिलाफ कुल तीन चीजों की जांच बैठा दी गई है।


सोशल मीडिया पर कई लोगो ने किया सुनीता का पूरा समर्थन 



जाने क्या है पुरा मामला 

सुनीता यादव ने गुजरात सरकार में राज्य मंत्री कुमार कनानी के बेटे की कार को रोका था। बताया गया था कि बेटा अपने दोस्तों के साथ सूरत में लॉकडाउन और रात्रि कर्फ्यू का उल्लंघन करके घूम रहा था। इसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया था, लेकिन बाद में जमानत मिल गई।


इस दौरान सुनीता ने एक वीडियो बनाया था जो वायरल हो गया। बता दे की महिला कॉन्स्टेबल सुनीता यादव ने आरोप लगाया था कि रात्रि कर्फ्यू के दौरान जब उन्होंने कुछ लोगों को रोका तो उन्होंने उन्हें धमकी दी थी। उन्होंने रात्रि कर्फ्यू के दौरान करीब साढ़े 10 बजे प्रकाश कनानी के दोस्तों को रोका था। इसके बाद दोस्तों ने प्रकाश कनानी को बुलाया, जो अपने पिता की कार में आया और कथित रूप से सुनीता से बहस करने लगा।


सुनीता ने कहा था - सरकार की नौकर, किसी के बाप की नहीं

कॉन्स्टेबल सुनीता के मुताबिक मंत्री के बेटे प्रकाश ने कहा था, 'आपको इसी जगह 365 दिन खड़ा रखने की ताकत है हमारे पास' आरोप है कि मंत्री के बेटे ने उसकी वर्दी उतरवाने तक की धमकी दी थी। इसपर सुनीता ने कहा, 'मैं सरकार की नौकरी करती हूं किसी के बाप की नहीं, वह और ही लोग होंगे जो नेता और मंत्रियों की गुलामी करते हैं। हमने अपने स्वाभिमान से समझौता नहीं करके नौकरी की है और भारत माता की शपथ ली है इस वर्दी की खातिर।'

No comments