ताजा ख़बरे

KANPUR - विकास का खजांची जय बाजपेई गिरफ्तार, साथी डब्बू भी धरा गया अब खुलेंगे विकास दुबे की काली कमाई के राज

कानपुर शूटआउट केस के मुख्य आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे के करीबी जयकांत वाजपेयी और उसके साथी प्रशांत शुक्ला को गिरफ्तार कर लिया गया है। बता दे की जय  विकास दुबे के पैसों का हिसाब रखता था। माना जा रहा है कि जय की गिरफ्तारी से विकास दुबे की काली कमाई के सारे राज सामने आएंगे,वही जय वाजपेयी की गिरफ्तारी पर कानपुर पुलिस का कहना है कि 2-3 जुलाई की रात आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में जय वाजपेयी और उसका साथी प्रशांत शुक्ला भी शामिल था. इन दोनों ने विकास दुबे की मदद की थी। 1 जुलाई को विकास दुबे ने जय वाजपेयी को फोन किया था और 2 जुलाई को जय और प्रशांत बिकरू गांव पहुंचे थे।


जानिए कोन है जय वाजपेयी

बताया जाता है कि आठ साल पहले जय वाजपेयी एक प्रिंटिंग प्रेस में 4000 की तनख्वाह पर नौकरी करता था. प्रिंटिंग प्रेस में नौकरी करने के दौरान ही वह विकास दुबे के संपर्क में आया. इसके बाद विकास के साथ मिलकर जय वाजपेयी विवादित जमीनों की खरीद-फरोख्त करने लगा।


पुलिस को शक विकास को बचाया और रकम, जेवरात और असलह लगाए ठिकाने

पूछताछ में एक तथ्य ये भी सामने आया है कि विकास शिवली से बाइक से कानपुर की तरफ आया। यहां पर जय ने उसके लिए गाड़ी का इंतजाम कर दिया था। बाइक ठिकाने लगाकर कार से वह रवाना हो गया। यह भी हो सकता है कि जय ने किसी करीबी से उसे लखनऊ या आगे तक पहुंचवाया। पूछताछ पूरी होने के बाद ही ये तथ्य स्पष्ट हो सकेगा। पुलिस ने जय के घरों में मंगलवार को छापा मारा। परिजनों से पूछताछ की। इस दौरान कुछ खास रकम, जेवरात या असलह नहीं मिला। सूत्रों के मुताबिक वारदात के एक-दो दिन पहले ही जय ने घरों में रखी करोड़ों की नकदी, जेवरात और असलहे ठिकाने लगा दिए। असलहे ठिकाने लगाए या फिर विकास दुबे को दिए इसकी जांच की जा रही है।

No comments