ताजा ख़बरे

LUCKNOW - मां-बेटी के आत्मदाह का मामला अमेठी के कांग्रेस, AIMIM नेता का हाथ एसओ समेत 4 पुलिसकर्मियों पर गाज



राजधानी लखनऊ में लोकभवन के सामने अमेठी की मां-बेटी द्वारा आत्मदाह किए जाने की घटना के बाद से हड़कंप मचा हुआ है। मामले की जांच में जुटी लखनऊ पुलिस ने चौंकाने वाला खुलासा किया है, पुलिस ने इसके पीछे साजिश होना बताया है और मामले में एमआईएम और कांग्रेस नेता सहित 4 के खिलाफ आपराधिक साजिश में एफआईआर लिखी गई है। लखनऊ पुलिस के कमिश्नर सुजीत पांडेय ने बताया कि शुक्रवार शाम लोक भवन के गेट-3 पर 2 महिलाओं ने खुद को आग लगाने की कोशिश की। दोनो मां-बेटी को सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है, बता दे की दोनों की हालत चिंता से बाहर है। 




इस संबंध में 9 मई 2020 को अमेठी में 2 एफआईआर लिखी गई थी, अमेठी में गुड़िया ने अर्जुन और 3 अन्य के खिलाफ एफआईआर लिखाई थी. कल रात जो साक्ष्य मिले हैं, उनमें षड्यंत्र का पता चला है,इस षड्यंत्र में मां-बेटी को उकसाने का मामला है। जिन चार लोगों के नाम सामने आये हैं उसमें अमेठी में एमआईएम के नेता कदीर खान और कांग्रेस के नेता अनूप पटेल, आसमा और सुल्तान  है। इन चारों ने इन दोनों मां-बेटी को आत्मदाह के लिए प्रेरित किया. पहले ये दोनों कांग्रेस कार्यालय गए और अनूप पटेल से बात कराई. आसमां और एमआईएम के नेता कदीर खान को अरेस्ट किया गया है. और मां-बेटी का इलाज अस्पताल में चल रहा है।


4 पुलिसकर्मी निलंबित कर दिए गया

उधर अमेठी जिला प्रशासन में भी हड़कंप मचा हुआ है, इस मामले को लेकर एक्शन भी शुरू हो गया है. लखनऊ से मिली फटकार के बाद डीएम और एसपी ने पीड़ित परिवार के गांव जामो नगर जाकर मामले की जानकारी की. मामले में जामो थाने के एसओ सहित 4 पुलिसकर्मी निलंबित कर दिए गए हैं।


Click & Buy Now
दरअसल 9 मई को गुड़िया का अपने पड़ोसी अर्जुन साहू से नाली का विवाद हुआ था और गुड़िया की तहरीर पर जामो थाने में अर्जुन साहू समेत 4 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था. वहीं विपक्षी अर्जुन साहू की तहरीर पर गुड़िया पर भी मुकदमा दर्जकर मामले की जांच चल रही थी..इसी बीच शुक्रवार शाम गुड़िया और उसकी मां लखनऊ में लोकभवन के सामने आत्मदाह का प्रयास किया।




सियासत में भी तेजी

वहीं इस मामले में सियासत भी तेज हो गई है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि बीजेपी सरकार में गरीबों की कोई सुनवाई नहीं है। सपा कार्यकाल में बनवाए गए लोकभवन को लेकर उन्होंने कहा कि सपा ने लोकभवन इसलिए बनवाया था कि जहां बिना भेदभाव आम जनता अपनी शिकायतों के निवारण के लिए जा सके। बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कहा कि जमीन विवाद प्रकरण में अमेठी जिला प्रशासन से न्याय न मिलने पर मां-बेटी को लखनऊ में सीएम कार्यालय के सामने आत्मदाह करने को मजबूर होना पड़ा. यूपी सरकार इस घटना को गम्भीरता से ले तथा पीड़ित को न्याय दे व लापरवाह अफसरों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई करे ताकि ऐसी घटना पुनः न हो. लेकिन लखनऊ पुलिस के खुलासे के बाद ये कहा जा सकता है एक सोची समझी साजिश के तहत पूरी घटना को अंजाम दिया गया जिससे राजधानी से लेकर अमेठी तक हड़कंप मच गया।

No comments