ताजा ख़बरे

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे फरार, सूचना देने वाले को 50 हजार इनाम पुलिसवाले पर भी है मुखबिरी का शक


हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे अभी भी फरार

कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की शहादत का जिम्मेदारी हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे अभी पुलिस की पकड़ से दूर है बता दे की 30 घंटे से ज्यादा का वक्त बीतने के बाद भी उसका कोई सुराग नहीं लगा है विकास की गिरफ्तारी को लेकर यूपी पुलिस ने पूरी ताकत झोंक दी हैएसटीएफ सहित यूपी पुलिस की करीब 100 टीमें लगातार छापेमारी कर रही हैंपुलिस ने उसकी सूचना देने वाले को 50 हजार रुपये इनाम की घोषणा भी कर दी गई है



कानपुर में हुए एनकाउंटर में 8 पुलिसकर्मियों की जान लेने वाले हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे और उसके साथियों का अभी तक कोई पता नहीं चल पाया है. घटना के एक दिन बाद भी वो पुलिस की गिरफ्त से बाहर है. उसकी तलाशी के लिए बनाई गई स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) कई जगहों पर छापेमारी कर रही है. यूपी पुलिस ने इसका सुराग देने वाले को 50 हजार रुपये के ईनाम का ऐलान भी किया है. पुलिस ने एक मोबाइल नंबर भी  9454400211 जारी कर कहा है कि इस पर भी सूचना दी जा सकती है, सूचना देने वाले व्यक्ति का नाम गोपनीय रखा जाएगा

मां ने भी अपने बेटे को भी मारने को कहा

विकास की तलाशी के लिए पूरे राज्य में एसटीएफ समेत यूपी पुलिस की करीब 100 टीमों ने तलाशी अभियान चलाया है, लेकिन अभी तक इस गैंगस्टर का कुछ पता नहीं चल पाया है. पुलिस ने उसके गांव वाले घर में भी छापा मारा और मोबाइल फोन बरामद किए, जिनकी जांच की जा रही है. आठ पुलिस जवानों की शहादत के बाद उसकी मां ने भी अपने बेटे को भी मारने को कहा. विकास की मां ने कहा कि उनके बेटे ने बहुत बुरा किया और अगर वो सरेंडर करता है तो ठीक है, नहीं तो पुलिस उसको भी एनकाउंटर में मार दे।


सीएम योगी ने कहा बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा

वहीं कल पुलिसकर्मियों की शहादत पर शोक जताते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि इनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा. सीएम योगी ने सख्त लहजे में कहा है कि इस घटना के जो भी आरोपी हैं उन्हें किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा, मुख्यमंत्री ने सभी शहीदों के परिजनों को 1-1 करोड़ रुपये की सहायता राशि,परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी और असाधारण पेंशन देने का भी वादा किया है


पुलिसवाले पर भी है मुखबिरी का शक

यूपी पुलिस पर सबसे बड़ा हमला करने वाले विकास दुबे की तलाश में जारी छापेमारी से इलाके में हड़कम्प है. पता चला है कि पुलिस ने कुछ संदिग्धों को हिरासत में लिया है जिसमें कुछ पुलिसवाले भी शामिल हैं, और उनपर मुखबिरी करने का शक है फिलहाल सभी पहलुओं पर जांच जारी है और पुलिस को दुर्दांत विकास की तलाश है

No comments