ताजा ख़बरे

ईमानदारी से टैक्स देने वालों को आज विशेष प्लेटफॉर्म लॉन्च करेंगे PM MODI, जाने क्या है वो

आज पीएम मोदी देश के टैक्सपेयर्स के लिए एक बड़ी घोषणा करने वाले हैं।पी ऍम मोदी कई मौकों पर ईमानदार टैक्सपेयर्स की तारीफ तो करते ही रहते हैं, लेकिन इस बार वह ईमानदार टैक्सपेयर्स के लिए एक बड़ा प्रोग्राम शुरू करने वाले हैं। बता दे इस नए प्रोग्राम का नाम है ट्रांसपैरेंट टैक्सेशन रखा गया है, इसका मतलब है पारदर्शी टैक्स व्यवस्था। इस कार्यक्रम की टैगलाइन रखी गई है ईमानदारों का सम्मान। ईमानदार टैक्सपेयर्स को प्रोत्साहन और कर प्रणाली में पारदर्शिता बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यानी गुरुवार सुबह 11 बजे एक नए खास प्लेटफॉर्म की शुरुआत करने जा रहे हैं। प्रधानमंत्री सुबह 11 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए 'ट्रांसपैरेंट टैक्सेशन ऑनरिंग द ऑनेस्ट' प्लेटफॉर्म की शुरुआत करेंगे।


पीएम मोदी ने दी जानकारी

खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी यह सोच रही है कि ईमानदार करदाताओं को प्रोत्साहित करना चाहिए. उनका मानना है कि ऐसे टैक्सपेयर्स की कड़ी मेहनत से ही देश तरक्की कर रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने खुद ट्वीट कर बुधवार को इसकी जानकारी दी. उन्होंने कहा, 'गुरुवार सुबह 11 बजे 'ट्रांसपैरेंट टैक्सेशन: ऑनरिंग द ऑनेस्ट' प्लेटफॉर्म की शुरुआत होगी. यह कर प्रणाली में सुधार और सरलीकरण की दिशा में हमारे प्रयासों को मजबूत करेगा. इससे बहुत से ईमानदार टैक्सपेयर्स को फायदा होगा जिनके कड़े परिश्रम की वजह से देश प्रगति कर रहा है।



कई हफ्तों से कर रहे थे बैठकें

बता दें कि पीएम मोदी पिछले करीब 3-4 हफ्तों से वरिष्ठ टैक्स अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे हैं। इन बैठकों से वह इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि एक पारदर्शी टैक्सेशन की जरूरत है। इन बैठकों में आयकर रिटर्न को लेकर काफी चर्चा हुई है। पीएम मोदी का मुख्य फोकस इंडिविजुअल टैक्सपेयर्स पर है। देखना दिलचस्प रहेगा कि आज के कार्यक्रम में पीएम मोदी टैक्सपेयर्स को क्या तोहफा देते हैं।


अक्सर उठती रही है मांग

गौरतलब है कि देश की कई संस्थाएं इनकम टैक्स व्यवस्था को खत्म करने या ईमानदार करदाताओं को प्रोत्साहित करने की मांग करती रही हैं. बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी तो इनकम टैक्स को खत्म कर देने की ही बात करते रहे हैं. तमाम जानकार यह भी कहते हैं कि भारत में इनकम टैक्स देने वाले को कोई प्रोत्साहन नहीं है बल्कि उसे प्रताड़ना का शिकार होना पड़ता है. कई एक्सपर्ट यह मांग करते रहे हैं कि टैक्सपेयर्स को उसी तरह से कुछ खास सुविधाएं देनी चाहिए जैसे कि कई विकसित देशों में मिलती हैं।


No comments