डॉ अरविंद कुमार गोयल बने मसीहा, बेसहारा और गरीबों की कर रहे मदद


Written by प्रेम एस पाल :-   अपने लिए जियें तो क्या जियें ऐ दिल तू जी जमाने के लिए....(मदद करने वाले हाथ इबादत करने वालों हाथों से ज्यादा पवित्र होते हैं)

मुरादाबाद पीतलनगरी के नाम से ही नही अब समाजसेवा के नाम से भी जाना जा रहा है। जी हां पीतलनगरी निवासी एक इंसान सूरज की किरणों से के साथ ही  न जाने कितने बेसहारा और गरीबों की मदद कर देता है। 

लोग कहते है कि ज़माना बदलता है, पर मर्द वो होते हैं जो ज़माने को बदलते हैं। जी हा ज़माने को बदलने निकला है एक सामान्य सा दिखने वाला इंसान। यू तो वो हमारी और आपकी तरह एक सामान्य इंसान है। लेक़िन लोग उसे अपना मसीहा मानते है। कोई उसे ऊपर वाले का भेजा फरिश्ता कहता है, तो कोई उसे साक्षात भगवान मानता है। हम बात कर रहे हैं मुरादाबाद के मशहूर समाजसेवी डॉ अरविंद कुमार गोयल की। जहां आम लोगों के दिन की शुरुआत इस सोच के साथ शुरू होती है कि उनका दिन शुभ गुजरे। वहीं इस मसीहा की सुबह गरीबों की मदद से शुरू होती है और रात उनकी मदद के साथ खत्म होती है। रोज़ सुबह तड़के बिना किसी शोर शराबे के खामोशी के साथ लोगों मदद के लिए अपने घर से निकल पड़ना अब इनकी रोज़ की आदत बन चुकी है। 

जब हमने ये पता करने की कोशिश की इतनी सुबह और रात के अंधेरे में लोगों की मदद का इनका मकसद क्या है। तब पता चला की ये मसीहा नहीं चाहता की समाज सेवा का जो व्रत इन्होंने लिया है उसका हो हल्ला हो। किसी भी तरह के प्रचार से दूर रहने वाले अरविंद कुमार गोयल रोज़ सुबह घर से निकल पड़ते है गरीबों और मजलूमो की तलाश में। सुबह से लेकर रात तक उनकी आंखो को तलाश रहती है उन लोगों की जिन्हें अपने इस मसीहा का ऐसे इंतज़ार रहता है जैसे उन्हें साक्षात अपने भगवान के दर्शन होने वाले हो। हालांकि अरविंद कुमार गोयल अपनी इस मदद की भावना को लेकर किसी भी तरह के प्रचार के सख्त खिलाफ हैं। लेकिन उनके चाहने वालो की तादात इतनी ज्यादा है कि कोई न कोई उनकी इस सेवा के वीडियो चुप चाप बना कर सोशल मीडिया में डाल देता है। डॉ अरविंद कुमार गोयल ने आज से कई दशक पहले समाज सेवा और गरीबों की मदद का जो व्रत लिया था वो आज भी जारी है। चाहे जिस्म झुलसा देने वाली गर्मी हो या फिर हाड़ कपा देने वाली ठंड। इस मसीहा का गरीबों की सेवा का व्रत हर मौसम में जारी रहता है। क्योकी इन्हें भी इस बात का बखूबी इल्म है कि हजारों आंखे रोज़ अपने मसीहा का इंतज़ार करती हैं कभी न खत्म होने वाली एक उम्मीद के साथ।

डॉ अरविंद कुमार गोयल की यही समाजसेवा उनको एक अलग पहचान देती है। यही कारण है कि   मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और ग्रह मंत्री अमित शाह भी डॉ अविन्द कुमार गोयल की समाज के प्रति उनके इस प्रेम के लिए प्रशंसा कर चुके हैं।

Post a Comment

0 Comments